Good Afternoon Messages in Hindi

अर्ज़ किया है,
शेर ने पिया बकरी का खून,
वाह वाह वाह,
शेर ने पिया बकरी का खून।
गुड आफ्टरनून!


सोचकर तुझे निखरने लगी हूँ मैं,
बिना आईने के संवरने लगी हूँ मैं,
तेरी मोहब्बत का मुझपे हुआ ऐसा असर,
खुशबू सी साँसों में उतरने लगी हूँ मैं,
सुनाई दे रही है हर तरफ तेरी आहट,
चलते चलते अब तो ठहरने लगी हूँ मैं,
हैरान हूँ मैं, अपने इस हालात पर,
शायद अब तुमसे प्यार करने लगी हूँ मैं|
गुड आफ्टर नून!


हमें पता हैं हम तुम्हारी यादों में कैद हैं,
तभी तो हर पल हमारे दिल में चैन हैं,
फिर भी भेजते हैं संदेशा इस ओर से,
मिलते ही रिप्लाई करना,
वरना हिचकी आयेगी जोर से।
गुड आफ्टर नून!


ना जाने कहा गये वो दिन,
जब सब हमें शायर कहते थे,
अब जब भी कोई लाइन सुनाते महफिल में,
लोग हमसे इंटरनेट URL माँगने आ जाते हैं।
गुड आफ्टर नून!


आज गुस्सा चढ़ा हुआ हैं नाक पर,
किसे बनाये शिकार समझ नहीं पाते,
लेकिन धन्यवाद हैं इंटरनेट का यारों,
आजकल फालतू फालतू जोक्स हर पल हैं आते।
गुड आफ्टर नून!


दिन के हर पहर याद आते हो तुम,
शुक्र हैं शायर की शायरी हैं इंटरनेट पर,
वरना हमारे लब्ज तुम समझ ना पाते,
और हम यूँही तन्हा मजनू रह जाते।
गुड आफ्टर नून!


क्या समझ रखा हैं हमें,
कोई आशिक आवारा,
हमारी शायरी पर मत जाना,
यह केवल काम हैं हमारा।
गुड आफ्टर नून!


चिंता फिकर छोड़ो,
अपनों से नाता जोड़ो,
कब काम आयेगा यह व्हाट्स एप,
उठाओं और गुड आफ्टर नून बोलो।
गुड आफ्टर नून!


गुड आफ्टर नून कह रहे हैं,
इसलिए ही पैगाम दे रहे हैं,
क्यूँ रूठती हो हमसे ऐसे,
वैसे ही इस गर्मी में हम जल रहे हैं।
गुड आफ्टर नून!


सूरज चाचा चढ़ पड़े हैं,
धधक धधक हमें तड़पा रहे हैं,
दोपहर की ये बैला बहुत सताती हैं,
मुझे तो हर पल तकिये की याद दिलाती हैं।
गुड आफ्टर नून!


एसी कूलर का मजा तो गांव की गर्मी में है,
लेकिन कमबख्त यहां बिजली ही नहीं,
दोपहर एक युग सी लगती है,
गर्म हवाओं में ये जिंदगी ना कटती है।
गुड आफ्टर नून!


जब तन्हाई में आपकी याद आती है,
होंठो पे एक ही फरियाद आती है,
खुदा आपको हर खुशी दे,
क्यूंकी आज भी हमारी हर खुशी आपके बाद आती है।
गुड आफ्टर नून!


मंज़िल मिलने से दोस्ती भुलाई,
नही जाती,
हमसफ़र मिलने से दोस्ती,
मिटाई नही जाती।
गुड आफ्टर नून!


सपनो की दुनिया में हम खोते गये,
होश में थे फिर भी मदहोश होते गये,
जाने क्या जादू था उस अजनबी चेहरे में,
खुद को बहुत रोका फिर भी उसके होते गये।
गुड आफ्टरनून!


बनाने वाले ने भी तुझे,
किसी कारण से बनाया होगा,
छोड़ा होगा जब ज़मीन पर तुझे,
उसके सीने में भी दर्द तो आया होगा।
गुड आफ्टरनून!


दिल मे हमने तुम्हारे प्यार की दास्तान लिखी हैं,
ना थोड़ी ना तमाम लिखी हैं,
कभी हमारे लिए भी दुआ कर लिया करो सनम,
हमने तो हर एक साँस तुम्हारे नाम लिखी हैं।
गुड आफ्टरनून!


नही आता जो उसका इंतेज़ार क्यूँ होता है,
अपना यह हाल किसी के लिए क्यूँ होता है,
बहुत चीज़े प्यारी है वैसे दुनिया में,
मिलता नही जो उससे प्यार क्यूँ होता है।
गुड आफ्टरनून!


बागो मे फूल खिलते रहेंगे,
रात मे दीप जलते रहेंगे,
दुआ है भगवान से की आप खुश रहो,
बाकी तो हम आपको “मिस” करते रहेंगे।
गुड आफ्टरनून!


सच्ची दोस्ती बेज़ुबान होती है,
ये तो आँखो से ब्यान होती है,
दोस्ती मे दर्द मिले तो क्या,
दर्द मे ही दोस्ती की पहचान होती है।
गुड आफ्टरनून!


आँखों में रहने वाले को याद नहीं करते,
दिल में रहने वाले की बात नहीं करते,
हमारी तो रुह में बस गए हो आप,
तभी तो मिलने की फरियाद नहीं करते।
गुड आफ्टरनून!


डर मुझे भी लगा फांसला देखकर,
पर में बढ़ता गया रास्ता देखकर,
खुद भी खुद मेरे नजदीक आती गयी,
मेरी मंज़िल मेरा हौसला देखकर।
गुड आफ्टरनून!


जब तन्हाई में आपकी याद आती है,
होंठो पे एक ही फरियाद आती है,
खुदा आपको हर खुशी दे,
क्यूंकी आज भी हमारी हर खुशी आपके बाद आती है।
गुड आफ्टरनून!


बनाने वाले ने भी तुझे,
किसी कारण से बनाया होगा,
छोड़ा होगा जब ज़मीन पर तुझे,
उसके सीने में भी दर्द तो आया होगा,
गुड आफ्टरनून!


सपनो की दुनिया में हम खोते गये,
होश में थे फिर भी मदहोश होते गये,
जाने क्या जादू था उस अजनबी चेहरे में,
खुद को बहुत रोका फिर भी उसके होते गये।
गुड आफ्टरनून!


दिल मे हमने तुम्हारे प्यार की दास्तान लिखी हैं,
ना थोड़ी ना तमाम लिखी हैं,
कभी हमारे लिए भी दुआ कर लिया करो सनम,
हमने तो हर एक साँस तुम्हारे नाम लिखी हैं।
गुड आफ्टरनून!


दिन के हर पहर याद आते हो तुम,
शुक्र हैं शायर की शायरी हैं इंटरनेट पर,
वरना हमारे लब्ज तुम समझ ना पाते,
और हम यूँही तन्हा मजनू रह जाते।
गुड आफ्टरनून!


क्या समझ रखा हैं हमें,
कोई आशिक आवारा,
हमारी शायरी पर मत जाना,
यह केवल काम हैं हमारा।
गुड आफ्टरनून!


चिंता फिकर छोड़ो,
अपनों से नाता जोड़ो,
कब काम आयेगा यह व्हाट्स एप,
उठाओं और गुड आफ्टर नून बोलो।
गुड आफ्टरनून!


गुड आफ्टर नून कह रहे हैं,
इसलिए ही पैगाम दे रहे हैं,
क्यूँ रूठती हो हमसे ऐसे,
वैसे ही इस गर्मी में हम जल रहे हैं।
गुड आफ्टरनून!


सूरज चाचा चढ़ पड़े हैं,
धधक धधक हमें तड़पा रहे हैं,
दोपहर की ये बैला बहुत सताती हैं,
मुझे तो हर पल तकिये की याद दिलाती हैं।
गुड आफ्टरनून!


AC कूलर का मजा तो गाँव की गर्मी में हैं,
लेकिन कमबख्त यहाँ बिजली ही नही,
दोपहर एक युग सी लगती हैं,
गरम हवाओं में ये जिन्दगी ना कटती हैं।
गुड आफ्टरनून!


ये दोपहर का आलम भी अजीब हैं,
तन में भरी सुस्ती भी क्या चीज हैं,
एक तरफ काम का बोझ सताता हैं,
दूसरी तरफ मूँछो वाला खडूस बॉस याद आता हैं।
गुड आफ्टरनून!


चिलचिलाती धुप में क्या मोहब्बत का पैगाम भेजे,
गुलाब के रूप में ये पसीने से महकती हवायें भेजे।
गुड आफ्टरनून!


दिल प्यार में बेकरार भी होता है,
दोस्ती में इंतज़ार भी होता है,
होती नहीं है प्यार में दोस्ती पर,
दोस्ती में शामील प्यार भी होता है।
गुड आफ्टरनून!


मिल जाए कोई नया तो हमें न भुला देना,
कोई रुलाये तुम्हे तो हमे याद कर लेना,
दोस्त रहेंगे उम्र भर तुम्हारे,
तुम्हारी ख़ुशी न सही गम ही बाँट लेना।
गुड आफ्टरनून!


ताज़ी हवा मे फुलो की महक हो,
पहली किरण मे चिड़ियो की चाहक हो,
जब भी खोलो तुम अपनी पलके,
उन पलकों मे बस खुशियो की झलक हो।
गुड आफ्टरनून!


तुझसे मोहब्बत में इतनी वफ़ा की हमने,
तेरी मोहब्बत की कुछ ऐसी परवाह की हमने,
जब भी किसी ने हमे प्यार से देखा,
तुझे याद करके नजरें झुका ली हमने|
गुड आफ्टर नून!


ये दोपहर का आलम भी अजीब हैं
तन में भरी सुस्ती भी क्या चीज हैं
एक तरफ काम का बोझ सताता हैं



हमें पता हैं हम तुम्हारी यादों में कैद हैं
तभी तो हर पल हमारे दिल में चैन हैं
फिर भी भेजते हैं संदेशा इस ओर से
मिलते ही रिप्लाई करना
वरना हिचकी आयेगी जोर से



ना जाने कहा गये वो दिन
जब सब हमें शायर कहते थे
अब जब भी कोई लाइन सुनाते महफिल में
लोग हमसे इंटरनेट URL माँगने आ जाते हैं



आज गुस्सा चढ़ा हुआ हैं नाक पर
किसे बनाये शिकार समझ नहीं पाते
लेकिन धन्यवाद हैं इंटरनेट का यारों
आजकल फालतू फालतू जोक्स हर पल हैं आते



दिन के हर पहर याद आते हो तुम
शुक्र हैं शायर की शायरी हैं इंटरनेट पर
वरना हमारे लब्ज तुम समझ ना पाते
और हम यूँही तन्हा मजनू रह जाते



क्या समझ रखा हैं हमें
कोई आशिक आवारा
हमारी शायरी पर मत जाना
यह केवल काम हैं हमारा



चिंता फिकर छोड़ो
अपनों से नाता जोड़ो
कब काम आयेगा यह व्हाट्स एप
उठाओं और गुड आफ्टर नून बोलो



गुड आफ्टर नून कह रहे हैं
इसलिए ही पैगाम दे रहे हैं
क्यूँ रूठती हो हमसे ऐसे
वैसे ही इस गर्मी में हम जल रहे हैं



सूरज चाचा चढ़ पड़े हैं
धधक धधक हमें तड़पा रहे हैं
दोपहर की ये बैला बहुत सताती हैं
मुझे तो हर पल तकिये की याद दिलाती हैं



चाहे दिन हो या रात
या दोपहर की बात
हम याद करते हैं तुम्हे हर पल
तुम मुस्काते रहो बनकर सुंदर फूल



एसी कूलर का मजा तो गांव की गर्मी में है
लेकिन कमबख्त यहां बिजली ही नहीं
दोपहर एक युग सी लगती है
गर्म हवाओं में ये जिंदगी ना कटती है



जब तन्हाई में आपकी याद आती है
होंठो पे एक ही फरियाद आती है
खुदा आपको हर खुशी दे
क्यूंकी आज भी हमारी हर खुशी आपके बाद आती है.
Good Afternoon My Dear Friend
पढ़ें : शुभ रात्रि के लिए शायरी और मेसेज



मंज़िल मिलने से दोस्ती भुलाई
नही जाती
हमसफ़र मिलने से दोस्ती
मिटाई नही जाती
गुड आफ्टरनून(Good Afternoon)



अर्ज़ किया है...
शेर ने पिया बकरी का खून
वाह वाह वाह
शेर ने पिया बकरी का खून
गुड आफ्टरनून
गुड आफ्टरनून(Good Afternoon)



सपनो की दुनिया में हम खोते गये
होश में थे फिर भी मदहोश होते गये
जाने क्या जादू था उस अजनबी चेहरे में
खुद को बहुत रोका फिर भी उसके होते गये.
गुड आफ्टरनून(Good Afternoon)



ने वाले ने भी तुझे
किसी कारण से बनाया होगा
छोड़ा होगा जब ज़मीन पर तुझे
उसके सीने में भी दर्द तो आया होगा
Good Afternoon Dear..



दिल मे हमने तुम्हारे प्यार की दास्तान लिखी हैं
ना थोड़ी ना तमाम लिखी हैं
कभी हमारे लिए भी दुआ कर लिया करो सनम
हमने तो हर एक साँस तुम्हारे नाम लिखी हैं
गुड आफ्टरनून(Good Afternoon)



नही आता जो उसका इंतेज़ार क्यूँ होता है
अपना यह हाल किसी के लिए क्यूँ होता है
बहुत चीज़े प्यारी है वैसे दुनिया में
मिलता नही जो उससे प्यार क्यूँ होता है
गुड आफ्टरनून (Good Afternoon)



बागो मे फूल खिलते रहेंगे,
रात मे दीप जलते रहेंगे,
दुआ है भगवान से की आप खुश रहो
बाकी तो हम आपको “मिस” करते रहेंगे
गुड आफ्टरनून



सच्ची दोस्ती बेज़ुबान होती है
ये तो आँखो से ब्यान होती है
दोस्ती मे दर्द मिले तो क्या?
दर्द मे ही दोस्ती की पहचान होती है.
गुड आफ्टरनून(Good Afternoon)



बागों में फूल खिलते रहेंगे
रात में दीप जलते रहेंगे
दुआ है भगवान से कि आप खुश रहो
बाकी तो हम आप को मिस करते रहेंगे
Good Afternoon...



जब भी मुझे याद तुम्हारी आती है
लबों पर मेरे बस यही फरियाद आती है
जिंदगी में खुदा हर खुशी दे तुम्हें
हमारी तो हर खुशी आपकी खुशी के बाद आती है
Good Afternoon Friends.



दिल प्यार में बेकरार भी होता है
दोस्ती में इंतजार भी होता है
होती नहीं है प्यार में दोस्ती पर
दोस्ती में शामिल प्यार भी होता है.
Good Afternoon Friends.



मंजिल मिलने से दोस्ती भुलाई नहीं जाती
हमसफर मिलने से दोस्ती मिटाई नहीं जाती
Good Afternoon!!!



सच्ची दोस्ती बेजुबान होती है
यह तो आंखों से बयां होती है
दोस्ती में दर्द मिले तो क्या
दर्द में ही दोस्ती की पहचान होती है
Good Afternoon!!!



इश्क कर देता है बेकरार
भर देता है पत्थर के दिल में प्यार
हर एक को नहीं मिलती जिंदगी की ये बहार
क्योंकि इश्क का दूसरा नाम है इंतजार
Good Afternoon!!!



कुछ सोचो तो तेरा ही ख्याल आता है
कुछ बोलो तो तेरा नाम आता है
कब तक मैं छुपाऊं अपने दिल की बात
उसकी हर अदा पर हमें प्यार आता है
Good Afternoon!!!



दिल को दिल से चुराया तुमने
दूर होते हुए भी अपना बनाया तुमने
कभी भूल नहीं पाएंगे दोस्त तुमको
क्योंकि दोस्ती करना सिखाया तुमने
Good Afternoon!!!



आपकी हंसी बहुत प्यारी लगती है
आपकी हर खुशी हमें हमारी लगती है
कभी दूर ना करना खुद से हमें
आपकी दोस्ती हमें जान से भी प्यारी लगती है
Good Afternoon!!!



अक्सर तन्हाई में उन्हें याद किया करते हैं
बस यूं बेवजह खुद से ही उनकी बात किया करते हैं
चाहत तो है चाहत से ज्यादा उन्हें पाने की
पर वह हमें मजाक में ही टाल दिया करते हैं
Have A Good Afternoon.