Friendship Quotes in Hindi

खुशियों का एक संसार लेकर आयेंगे,
पतझड़ में भी बहार लेकर आयेंगे,
जब भी पुकारोगे आप दिल से ऐ दोस्त,
हम खुदा से साँसे उधार लेके आयेंगे।


एहसास बहुत होगा जब छोड़ के जाएंगे,
रोयेंगे बहुत मगर आँसू नहीं आएँगे,
जब साथ कोई ना दे तो आवाज़ हमें देना,
आसमान पर होंगे तो भी लौट के आएंगे।


ऐ दोस्त जब कभी तू बहुत उदास होगा,
मेरा ख्याल तेरे दिल के आस-पास होगा,
दिल की गहराईयों से जब भी करेगा याद,
तुझे हमारे करीब होने का एहसास होगा।


तुम साथ अगर दोगे तो मुस्कुराएंगे जरूर,
दोस्ती अगर दिल से करोगे तो निभाएंगे जरूर,
कितने भी काँटे क्यों ना हों दोस्ती की राह में,
आवाज़ अगर दिल से दोगे तो आएंगे जरूर।


वो बात क्या करूँ जिसकी खबर ही न हो,
वो दुआ क्या करूँ जिसमें असर ही न हो,
कैसे कह दूँ दोस्त आपको लग जाये मेरी उम्र,
क्या पता अगले पल मेरी उम्र ही न हो।


हँसी छुपाना किसी को गंवारा नहीं होता,
हर मुसाफिर ज़िन्दगी का सहारा नहीं होता,
मिलते है लोग इस तनहा ज़िन्दगी में पर,
हर कोई दोस्त तुम सा प्यारा नहीं होता।


जो दिल के हो करीब उसे रुसवा नहीं करते,
यूँ अपनी दोस्ती का तमाशा नहीं करते,
खामोश रहोगे तो घुटन और बढ़ेगी,
दोस्तों से कोई बात छुपाया नहीं करते।


यादों के भंवर में एक पल हमारा हो,
खिलते चमन में एक गुल हमारा हो,
जब याद करें आप अपने दोस्तों को,
उन नामों में एक नाम हमारा हो।


हम दोस्त बनाकर किसी को रुलाते नहीं,
दिल में बसाकर किसी को भुलाते नहीं,
हम तो दोस्त के लिए जान भी दे सकते हैं,
और तुम सोचते हो हम दोस्ती निभाते नहीं।


यह सफ़र दोस्ती का कभी खत्म न होगा,
दोस्तों से प्यार कभी कम न होगा,
दूर रहकर भी जब रहेगी महक इसकी,
हमें कभी बिछड़ने का ग़म न होगा।


उम्मीद ऐसी हो जो जीने को मजबूर करे,
राह ऐसी हो जो चलने को मजबूर करे,
महक अपनी दोस्ती की कम न हो कभी,
दोस्ती ऐसी हो जो मिलने को मजबूर करे।


कल न हम होंगे न कोई गिला होगा,
सिर्फ सिमटी हुयी यादों का सिलसिला होगा,
जो लम्हे हैं उन्हें हँसकर बिता ले दोस्त,
जाने कल ज़िन्दगी का क्या फैसला होगा।


दुनियादारी में हम थोड़े कच्चे हैं,
पर दोस्ती के मामले में सच्चे हैं,
हमारी सच्चाई बस इस बात पर कायम है,
कि हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं।


खामोशियों में धीमी सी आवाज़ है,
तन्हाईयों में भी एक गहरा राज़ है,
मिलते नही हैं सबको अच्छे दोस्त यहाँ,
आप जो मिले हो हमें खुद पर नाज़ है।


रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी,
दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी,
जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा,
उसे ज़िन्दगी से कोई और शिकायत क्या होगी।


तन्हाई सी थी दुनिया की भीड़ में,
सोचा कोई अपना नहीं तकदीर में,
एक दिन जब दोस्ती की आप से तो यूँ लगा,
कुछ ख़ास था मेरे हाथ की लकीर में।


साथ रहते यूँ ही वक़्त गुजर जायेगा,
दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा,
जी लो ये पल जब तक साथ है दोस्तों,
कल क्या पता वक़्त कहाँ ले के जायेगा।


इश्क़ और दोस्ती मेरी ज़िन्दगी के दो जहाँ है,
इश्क़ मेरा रूह तो दोस्ती मेरा ईमान है,
इश्क़ पे कर दूँ फ़िदा अपनी सारी ज़िन्दगी,
मगर दोस्ती पे तो मेरा इश्क़ भी कुर्बान है।


होंठों पे उल्फत के फ़साने नहीं आते,
जो बीत गए फिर वो ज़माने नहीं आते,
दोस्त ही होते हैं दोस्तों के हमदर्द,
कोई फ़रिश्ते यहाँ साथ निभाने नहीं आते।


दुनियादारी में हम थोड़े कच्चे हैं,
पर दोस्ती के मामले में सच्चे हैं,
हमारी सच्चाई बस इस बात पर कायम है,
कि हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं।


अंधेरों के लिए कुछ आफताब माँगे हैं,
अपने लिए हमने दोस्त कुछ ख़ास माँगे हैं,
जब भी दुआ में कुछ माँगा है रब से,
तो आपके लिए ख़ुशी भरे लम्हात माँगे हैं।


हम दोस्त बनाकर किसी को रुलाते नही,
दिल में बसाकर किसी को भुलाते नही,
हम तो दोस्त के लिए जान भी दे सकते हैं,
पर लोग सोचते हैं की हम दोस्ती निभाते नहीं।


हर ख़ुशी से ख़ूबसूरत तेरी शाम कर दूँ,
अपना प्यार और दोस्ती तेरे नाम कर दूँ,
मिल जाये अगर दुबारा यह ज़िन्दगी दोस्त,
हर बार मैं ये ज़िन्दगी तुझ पर कुर्बान कर दूँ।


मुझे रहने दे ऐ दोस्त पास अपने,
नजरों से यूँ अपनी तू दूर न कर,
बस एक जिंदगी ही बाकि है मेरे पास,
इसको भी जुदा करने को मजबूर न कर।


थोड़ा सा दिल को उदास कर लिया करो,
दोस्त से दूर होने का एहसास कर लिया करो,
हमेशा हम ही याद करते हैं आपको,
कभी आप भी हमें याद कर लिया करो।


दोस्त समझते हो तो दोस्ती निभाते रहना,
हमें भी याद करना खुद भी याद आते रहना,
हमारी तो हर ख़ुशी दोस्तों से ही है,
हम खुश रहें या ना आप यूँ ही मुस्कुराते रहना।


ज़िंदगी के तूफानों का साहिल है दोस्ती,
दिल के अरमानों की मंज़िल है दोस्ती,
ज़िंदगी भी बन जाएगी अपनी तो जन्नत,
अगर मौत आने तक साथ दे दोस्ती।


वो याद नहीं करते हम भुला नहीं सकते,
वो हँसा नहीं सकते हम रुला नहीं सकते,
दोस्ती इतनी खूबसूरत है हमारी,
वो बता नहीं सकते हम जता नहीं सकते।


ख़ुशी से दिल को आबाद करना,
और गम को दिल से आजाद करना,
हमारी बस इतनी गुजारिश है कि,
दिन में हमें एक बार याद करना।


यह सफ़र दोस्ती का कभी ख़त्म न होगा,
दोस्तों से प्यार कभी कम न होगा,
दूर रहकर भी जब रहेगी महक इसकी,
हमें कभी बिछड़ने का ग़म न होगा।


मुस्कराहट का कोई मोल नहीं होता,
कुछ रिश्तों का कोई तोल नहीं होता,
लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर लेकिन,
हर कोई आपकी तरह अनमोल नहीं होता।


उमीद ऐसी हो जो जीने को मजबूर करे,
राह ऐसी हो जो चलने को मजबूर करे,
महक कम न हो कभी अपनी दोस्ती की,
दोस्ती ऐसी हो जो मिलने को मजबूर करे।


चंद लम्हों की जिंदगानी है,
नफरतों से जिया नहीं करते,
दुश्मनों से गुजारिश करनी पड़ेगी,
दोस्त तो अब याद किया नहीं करते।


दोस्ती तो इन्सान की ज़रुरत है,
दिलों पर दोस्ती की हुकूमत है,
आपके प्यार की वजह से जिंदा हैं,
वरना खुदा को भी हमारी ज़रुरत है।


सोचा था न करेंगे किसी से दोस्ती,
और न ही करेंगे किसी से वादा,
पर क्या करे दोस्त मिला इतना प्यारा,
कि करना पड़ा दोस्ती का इरादा।


एक रात रब ने मेरे दिल से पूछा,
तू दोस्ती में इतना क्यूँ खोया है?
दिल बोला दोस्तों ने ही दी हैं सारी खुशियाँ,
वरना प्यार करके तो दिल हमेशा रोया है।


तुम रूठे रूठे लगते हो,
कोई तरकीब बताओ मनाने की,
मैं ज़िन्दगी गिरवी रख दूं,
तुम कीमत तो बताओ मुस्कुराने की।


न जाने क्यों हमें आँसू बहाना नहीं आता,
न जाने क्यों हाले-दिल बताना नहीं आता,
क्यों सब दोस्त खफा हो गए हमसे,
शायद हमें ही साथ निभाना नहीं आता।


गुनाह करके सजा से डरते है,
ज़हर पी के दवा से डरते है,
दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे,
हम दोस्तों के खफा होने से डरते है।


सबसे अलग सबसे न्यारे हो आप,
तारीफ कभी पुरी ना हो इतने प्यारे हो आप,
आज पता चला जमाना क्यों जलता है हमसे,
क्यों कि दोस्त तो आखिर हमारे हो आप।


हंसी छुपाना किसी को गवारा नहीं होता,
हर मुसाफिर ज़िन्दगी का सहारा नहीं होता,
मिलते है लोग इस तनहा ज़िन्दगी में पर,
हर कोई दोस्त तुमसा प्यारा नहीं होता।


हक़ीकत मोहब्बत की जुदाई होती है,
कभी-कभी प्यार में बेवफाई होती है,
हमारे तरफ हाथ बढ़ाकर तो देखो,
दोस्ती में कितनी सच्चाई होती है।


सारे दोस्त एक जैसे नहीं होते,
कुछ हमारे होकर भी हमारे नहीं होते,
आपसे दोस्ती करने के बाद महसूस हुआ,
कौन कहता है 'तारे ज़मीं पर' नहीं होते।


रिश्तों से बड़ी चाहत और क्या होगी,
दोस्ती से बड़ी इबादत और क्या होगी,
जिसे दोस्त मिल सके कोई आप जैसा,
उसे ज़िंदगी से कोई और शिकायत क्या होगी।


दोस्ती दर्द नहीं खुशियों की सौगात है,
किसी अपने का ज़िंदगी भर का साथ है,
ये तो दिलों का वो खूबसूरत एहसास है,
जिसके दम से रौशन ये सारी कायनात है।


किस हद तक जाना है ये कौन जानता है,
किस मंजिल को पाना है ये कौन जानता है,
दोस्ती के दो पल जी भर के जी लो,
किस रोज़ बिछड जाना है ये कौन जानता है।


हम वो फूल हैं जो रोज़ रोज़ नहीं खिलते,
यह वो होंठ हैं जो कभी नहीं सिलते,
हम से बिछड़ोगे तो एहसास होगा तुम्हें,
हम वो दोस्त हैं जो रोज़ रोज़ नहीं मिलते।


जब भी साथ बिताया वक़्त याद आता है,
मेरी पलकों पर बहते आँसू छोड़ जाता है,
कोई और मिल जाये तो हमें न भूल जाना,
दोस्ती का रिश्ता जिंदगी भर काम आता है।


खुशी की परछाइयों का नाम है दोस्ती,
गमों की गहराईओं का जाम है दोस्ती,
एक प्यारा सा दोस्त है हमारा यहाँ,
उसकी प्यारी सी हँसी का नाम है दोस्ती।


खुदा ने अगर ये रिश्ता बनाया ना होता,
एक प्यारे दोस्त को मुझसे मिलाया न होता,
ज़िंदगी हो जाती हमारी बिल्कुल वीरान,
अगर आप जैसे दोस्त को पाया न होता।


छोटी-छोटी शरारतों का अंजाम है दोस्ती,
कहे-अनकहे रिश्तों का पैगाम है दोस्ती,
दिन-रात की मस्ती का नाम है दोस्ती,
लेकिन आपके बिना बिल्कुल बेजान है ये दोस्ती।


आपकी हमारी दोस्ती सुरों का साज है,
आप जैसे दोस्त पर हमें नाज़ है,
अब चाहे कुछ भी हो जाये ज़िन्दगी में,
दोस्ती वैसे ही रहेगी जैसे आज है।


ज़िन्दगी के तूफानों का साहिल है दोस्ती,
दिल के अरमानों की मंज़िल है दोस्ती,
ज़िन्दगी भी बन जाएगी अपनी तो जन्नत,
अगर मौत आने तक साथ दे दोस्ती।


तुम दोस्त बनके ऐसे आए ज़िन्दगी में,
कि हम ये जमाना ही भूल गये,
तुम्हें याद आए न आए हमारी कभी,
पर हम तो तुम्हें भुलाना ही भूल गये।


ज़िन्दगी हर पल कुछ खास नहीं होती,
फूलों की खुशबू हमेशा पास नहीं होती,
मिलना हमारी तक़दीर में था वरना,
इतनी प्यारी दोस्ती इत्तेफाक नहीं होती।


दोस्ती नाम है सुख-दुःख की कहानी का,
दोस्ती राज है सदा ही मुस्कुराने का,
ये कोई पल भर की जान-पहचान नहीं है,
दोस्ती वादा है उम्र भर साथ निभाने का।


हम जब भी आपकी दुनिया से जायेंगे,
इतनी खुशियाँ और अपनापन दे जायेंगे,
कि जब भी याद करोगे इस पागल दोस्त को,
हँसती आँखों से आँसू निकल आयेंगे।


आसमान से तोड़ कर सितारा दिया है,
आलम-ए-तन्हाई में एक शरारा दिया है,
मेरी किस्मत भी नाज़ करती है मुझपे,
खुदा ने दोस्त ही इतना प्यारा दिया है।


खामोशियों में धीमी सी आवाज़ है,
तन्हाईयों में भी एक गहरा राज़ है,
मिलते नही हैं सबको अच्छे दोस्त यहाँ,
आप जो मिले हो हमें खुद पर नाज़ है।


ऐ दोस्त जब कभी भी तू बहुत उदास होगा,
मेरा ख्याल तेरे दिल के आस-पास होगा,
दिल की गहराईयों से जब भी करोगे याद,
तुम्हें हमारे करीब होने का एहसास होगा।


दोस्ती का हर कर्ज़ अदा कौन करेगा,
जब हम नहीं रहेंगे तो दोस्ती कौन करेगा,
ऐ खुदा मेरे दोस्त को सदा सलामत रखना,
वरना मेरे जीने की दुआ कौन करेगा।


महफ़िल में कुछ तो सुनाना पड़ता है,
ग़म छुपाकर मुस्कुराना पड़ता है,
कभी हम भी हुआ करते थे आपके दोस्त,
आज कल आपको याद दिलाना पड़ता है।


यादों के भंवर में एक पल हमारा हो,
खिलते चमन में एक गुल हमारा हो,
जब याद करें आप अपने दोस्तों को,
उन नामों में बस एक नाम हमारा हो।


तू इस कदर मुझे अपने करीब लगता है,
तुझे अलग से जो सोचूं तो अजीब लगता है,
ये दोस्ती, ये मरासिम, ये चाहतें, ये खुलूस,
कभी कभी ये सब कुछ अजीब लगता है।


तुम दोस्त बनके ऐसे आए जिंदगी में,
कि हम ये जमाना ही भूल गये,
तुम्हें याद आए ना आए हमारी कभी,
पर हम तो तुम्हें भुलाना ही भूल गये।


साथ रहते यूँ ही वक़्त गुजर जायेगा,
दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा,
जी लो ये पल जब हम साथ हैं दोस्तों,
कल क्या पता वक़्त कहाँ ले के जायेगा।


जो दिल के हो करीब उसे रुसवा नहीं करते,
यूँ अपनी दोस्ती का तमाशा नहीं करते,
खामोश रहोगे तो घुटन और बढ़ेगी,
अपनों से कोई बात छुपाया नहीं करते।


वो बात क्या करूँ जिसकी खबर ही न हो,
वो दुआ क्या करूँ जिसमे असर ही न हो,
कैसे कह दूँ आपको लग जाये मेरी भी उम्र,
क्या पता अगले पल मेरी उम्र ही न हो।


ख़ुशी की परछाइयों का नाम है जिंदगी,
गमों की गहराईओं का जाम है जिंदगी,
एक प्यारा सा दोस्त है हमारा यहाँ,
उसकी प्यारी सी हँसी का नाम है जिंदगी।


एहसास बहुत होगा जब छोड़ के जाएंगे,
रोयेंगे बहुत मगर आँसू नहीं आएँगे,
जब साथ कोई ना दे तो आवाज़ हमें देना,
आसमान पर होंगे तो भी लौट के आएंगे।


शायद फिर से वो तक़दीर मिल जाए,
जीवन के वो हसीन पल मिल जाए,
चल फिर से बैठे क्लास की लास्ट बैंच पर,
शायद वापस वो पुराने दोस्त मिल जाए।


दूर हैं आपसे तो कुछ गम नहीं,
दूर रह कर भूलने वाले हम नहीं,
रोज़ मुलाक़ात न हो तो क्या हुआ,
आपकी याद मुलाक़ात से कम नहीं।


गुनगुनाना तो तकदीर में लिखा कर लाए थे,
खिलखिलाना दोस्तों से तोहफ़े में मिल गया।
न कोई गिला करता हूँ न शिकवा करता हूँ,
तुम सलामत रहो बस यही दुआ करता हूँ।


आपकी हमारी दोस्ती सुरों का साज है,
आप जैसे दोस्त पर हमें नाज़ है,
अब चाहे कुछ भी हो जाये जिंदगी में,
दोस्ती वैसे ही रहेगी जैसे आज है।


जब साथ बिताया वक़्त याद आता है,
मेरी पलकों पर आंसू छोड़ जाता है,
कोई और मिल जाये तो हमें न भूल जाना,
दोस्ती का रिश्ता जिंदगी भर काम आता है।


गीत की ज़रूरत महफिल में होती है,
प्यार की ज़रूरत दिल में होती है,
बिना दोस्त के अधूरी है ज़िन्दगी,
क्योंकि दोस्त की ज़रूरत हर पल में होती है।


हर पल की दोस्ती का इरादा है आपसे,
अपनापन ही कुछ ज्यादा है आपसे,
साथ होंगे आपके उम्र भर के लिये,
हमेशा दोस्ती निभाएंगे वादा है आपसे।


करनी है खुदा से गुजारिश,
तेरी दोस्ती के सिवा कोई बंदगी न मिले,
हर जनम में मिले दोस्त तेरे जैसा,
या फिर कभी जिंदगी न मिले।


जिंदगी हर पल कुछ खास नहीं होती,
फूलों की खुशबू पास नहीं होती,
मिलना हमारी तक़दीर में था वरना,
इतनी प्यारी दोस्ती इत्तेफाक नहीं होती।


आपकी पलकों पर रह जाये कोई,
आपकी सांसो पर नाम लिख जाये कोई,
चलो वादा रहा भूल जाना हमें,
अगर हमसे अच्छा दोस्त मिल जाये कोई।


तन्हाई सी थी दुनिया की भीड़ में,
सोचा कोई अपना नहीं तकदीर में,
एक दिन जब दोस्ती की आप से तो यूँ लगा,
कुछ ख़ास था मेरे हाथ की लकीर में।


सच्ची है मेरी दोस्ती आजमा के देखलो,
करके यकीं मुझ पे मेरे पास आ के देखलो,
बदलता नहीं कभी सोना अपना रंग,
जितनी बार चाहे आग लगा कर देखलो।


तू दूर है मुझसे और पास भी है,
मुझे तेरी कमी का एहसास भी है,
दोस्त तो हमारे लाखों हैं इस जहाँ में,
पर तू प्यारा भी है और खास भी है।


जो कोई समझ न सके वो बात हैं हम,
जो ढल के नयी सुबह लाये वो रात हैं हम,
छोड़ देते हैं लोग रिश्ते बनाकर यूँ ही,
जो कभी न छूटे ऐसा साथ हैं हम।


तुम सदा मुस्कुराते रहो ये तमन्ना है हमारी,
हर दुआ में माँगी है बस खुशी तुम्हारी,
तुम सारी दुनिया को दोस्त बना कर देख लो,
फ़िर भी महसूस करोगे कमी हमारी।


दोस्ती का शुक्रिया कुछ इस तरह अदा करूँ,
आप भूल भी जाओ तो मैं हर पल याद करूँ,
खुदा ने बस इतना सिखाया हैं मुझे,
कि खुद से पहले आपके लिए दुआ करूँ।


वो दिल क्या जो मिलने की दुआ न करे,
तुम्हें भूलकर जियूं यह खुदा न करे,
रहे तेरी दोस्ती मेरी जिंदगी बनकर,
यह बात और है जिन्दगी वफा न करे।


साथ अगर दोगे तो मुस्कुराएंगे ज़रूर,
कितने भी काँटे क्यों ना हों दोस्ती की राहों में,
आवाज़ अगर दिल से दोगे तो आएंगे ज़रूर।


ख़ुशी से बीते हर दिल हर सुहानी रात हो,
जिस तरफ आपके कदम पड़े फूलो के बरसात हो।


कुछ तो बात है तेरी फितरत में ऐ दोस्त, वरना,
तुझे याद करने की खता हम बार-बार न करते।


देखी जो नब्ज मेरी तो हँस कर बोला हकीम,
तेरे मर्ज़ का इलाज महफ़िल है तेरे दोस्तों की।


वक्त की यारी तो हर कोई करता है मेरे दोस्त,
मजा तो तब है जब वक्त बदले पर यार ना बदले।


दोस्त होकर भी महीनों नहीं मिलता मुझसे,
उस से कहना कि कभी ज़ख्म लगाने आये।


दुश्मनों से मोहब्बत होने लगी है मुझे,
जैसे-जैसे दोस्तों को आजमाता जा रहा हूँ।


दोस्ती किस से न थी किस से मुझे प्यार न था,
जब बुरे वक़्त पे देखा तो कोई यार न था।


तूफानों ​की दुश्मनी से न बचते तो खैर थी​,
​साहिल से दोस्तों के भरम ने डुबो दिया​।


हम वक्त गुजारने के लिए दोस्त नहीं रखते,
दोस्तों के साथ रहने के लिए वक्त रखते हैं।


मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं,
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर।


दुश्मन के सितम का खौफ नहीं हमको,
हम तो दोस्तों के रूठ जाने से डरते हैं।


दोस्तों से बिछड़ के यह एहसास हुआ है,
बेशक कमीने थे लेकिन रौनक उन्हीं से थी।


सच्चे दोस्त हमें कभी गिरने नहीं देते,
न किसी कि नजरों मे न किसी के कदमों में।


दोस्ती में दोस्त, दोस्त का ख़ुदा होता है,
महसूस तब होता है जब वो जुदा होता है।


ना तुम दूर जाना ना हम दूर जायेंगे,
अपने-अपने हिस्से की दोस्ती निभाएंगे।


दो रास्ते जींदगी के, दोस्ती और प्यार,
एक जाम से भरा, दुसरा इल्जाम से..।


ये किसने कहा यारी बराबरी वालो से होती है,
ये तो अनमोल है इसमे सब बराबर होता है।


बेशक थोड़ा इंतजार मिला हमको,
पर दुनिया का सबसे हसीं यार मिला हमको,
न रही तमन्ना अब किसी जन्नत की,
तेरी दोस्ती में वो प्यार मिला हमको।


गुनगुनाना तो तकदीर में लिखा कर लाए थे,
खिलखिलाना दोस्तों से तोहफ़े में मिल गया।


मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं,
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर।


अपनी दोस्ती का बस इतना सा उसूल है,
जब तू कबूल है तो तेरा सब-कुछ कुबूल है।


वो अच्छा है तो अच्छा है,वो बुरा है तो भी अच्छा है,
दोस्ती के मिजाज़ में, यारों के ऐब नहीं देखे जाते।


दोस्ती किससे न थी किससे मुझे प्यार न था,
जब बुरे वक़्त पे देखा तो कोई यार न था।


तूफानों ​की दुश्मनी से न बचते तो खैर थी​,
​साहिल से दोस्तों के भरम ने डुबो दिया​।


आप जिसके वास्ते मुझसे किनारा कर गए,
आपसे बच कर वही मुझको इशारा कर गए।


दोस्त होकर भी महीनों नहीं मिलता मुझसे,
उस से कहना कि कभी ज़ख्म लगाने आये।


दाग दुनिया ने दिए ज़ख्म ज़माने से मिले,
हमको तोहफे ये तुम्हें दोस्त बनाने से मिले।


दुश्मनों से मोहब्बत होने लगी है मुझे,
जैसे-जैसे दोस्तों को आजमाता जा रहा हूँ।


इस बेवफ़ा ज़िन्दगी से शायद मुझे इतनी मोहब्बत ना होती,
अगर इस ज़िंदगी में दोस्त कोई तुम जैसा नहीं मिलता।


अपने सायें से भी ज़यादा यकीं है मुझे तुम पर,
अंधेरों में तुम तो मिल जाते हो, साया नहीं मिलता।


आदतें अलग हैं मेरी दुनिया वालों से,
दोस्त कम रखता हूँ पर लाजवाब रखता हूँ।